National

उमा भारती ने दलितों के साथ भोजन करने से किया मना

भोपाल/छतरपुर। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के दलितों के घर जाकर भोजन करने के कार्यक्रमों के बीच केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने सामाजिक समरसता भोज में दलितों के साथ भोजन करने से मना कर दिया। छतरपुर के नौगांव के ददरी गांव में पहुंची उमा भारती ने मंच से कहा कि वह इस समरसता भोज में भोजन नहीं करेगी। वह दलित के घर खाना खाने की जगह अपने घर पर दलितों को भोजन कराएंगी और परिवार के लोगों से झूठे बर्तन उठवाएंगी।
दरअसल, उमा भारती यहां संत रविदास के मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम में शामिल होने के लिए पहुंची थीं, जहां धार्मिक आयोजन के साथ सामाजिक समरसता भोज का आयोजन भी किया गया था।
बिना भोजन किए लौटीं
उमा भारती ने संत रविदास की प्रतिमा का अनावरण किया और सीधे मंच पर पहुंची। उन्होंने रामायण के सुंदरकांड के प्रसंग सुनाए। इसके बाद जब उनके भाषण का समापन हो रहा था तो आयोजकों ने समरसता भोज में शामिल होने का आग्रह किया। इस पर उन्होंने माइक से ही कहा कि मैं दलितों के साथ भोजन नहीं करती हूं। बल्कि दलितों को अपने घर बुलाकर भोजन कराती हूं।
दलित मुखिया भी बगैर भोजन किए लौटे
उमा भारती के बिना भोजन किए चले जाने पर दलित समाज के कई मुखिया भी यहां से बिना भोजन किए चले गए। उमा भारती के जाने के बाद भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के सचिव डॉ. राकेश मिश्रा जरूर पहुंचे।

Amit Khan
I am a enthusiastic journalist and work for day and night to aware people about new events and local problems about your city and state.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *