Bikaner Samachar
SGNR

‘सात दिन में दुरुस्त करो पेयजल पाईप लाईन ’ -गांव रोटावाली में लगी रात्रि चैपाल

श्रीगंगानगर। जिला कलक्टर ज्ञानाराम ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र के दौरों एवं रात्रि चौपालों में देखने को मिला है कि नीचे स्तर के कार्मिक अधिक सक्रिय नही है। इसी वजह से आमजन को परेशानी होती है। उन्होंने कहा कि किसी भी विभाग का नीचे स्तर का कर्मचारी लापरवाह है, तो इसका सीधा अर्थ जिला स्तरीय अधिकारी की निष्क्रियता है।
जिला कलक्टर ने सादुलशहर पंचायत समिति की ग्राम पंचायत रोटावाली में आयोजित रात्रि चौपाल में भी ऐसे ही तस्वीर देखी, जिसका वर्णन बुधवार की बैठक में किया। उन्होंने कहा कि ग्राम स्तर पर सेवारत ग्राम सचिव, पटवारी, कृषि पर्यवेक्षक, पेयजल विद्युत के कार्मिक भी भली प्रकार से अपनी योजनाओं को नही जानते तथा ग्रामीणों को किस तरह लाभ दिया जाना है, से भी अनभिज्ञ रहते हैं। उन्होंने जिला स्तरीय अधिकारियों को निर्देशित किया कि ग्राम स्तर की मशीनरी को सक्रिय किया जाये, जिस विभाग की ज्यादा शिकायतें आयेंगी, उसकी जिम्मेदारी जिला स्तरीय अधिकारी की होगी।
रात्रि चौपाल में बताया कि रोटावाली ग्राम पंचायत में वर्ष 2016-17 में 14 प्रधानमंत्राी आवास, वर्ष 2017-18 में 44 प्रधानमंत्री आवास स्वीकृत हुए हैं तथा कार्य प्रगति पर है। कलक्टर ने विकास अधिकारी को निर्देशित किया कि ग्राम पंचायत में तत्काल नरेगा योजना के कार्य प्रारम्भ किये जाये। गांव में किस श्रमिक ने सौ दिन पूरे किये हैं, की समीक्षा की जाये।
ढंग से काम नहीं कर रहा कार्मिक
ग्रामीणों ने बताया कि ई-मित्रा का कार्मिक सही ढेग से कार्य नहीं कर रहा है। जिला कलक्टर ने तहसीलदार को तथ्यात्मक रिपोर्ट देने के निर्देश दिये, वही पर सूचना एवं प्रौद्योगिकी विभाग को भी ई-मित्रा की जांच करने के निर्देश दिये हैं। ग्रामीणों ने बताया था कि आवेदन करने के बाद कई दिनों तक लम्बित रहते है, जिससे समय पर लाभ नही मिल पाता।
शिकायत को गंभीरता से लिया
ग्रामीणों ने बताया कि सीएडी द्वारा खाला निर्माण के दौरान पेयजल पाईपलाईन टूट गई थी, जो लम्बे समय बाद भी ठीक नही करवाई गयी। जिला कलक्टर ने इसे गंभीरता से लिया तथा सीएडी अधिकारियों को आगामी सात दिवस में पेयजल पाईप लाईन ठीक कर रिपोर्ट करने के निर्देश दिये। अन्यथा संबंधित सहायक अभियंता तथा कार्यकारी एजेंसी के विरूद्ध पुलिस में प्राथमिकी दर्ज करवाई जायेगी। गांव के जोहड़ में पानी की उपलब्धता नही होने की शिकायत पर जिला कलक्टर ने विकास अधिकारी को निर्देश दिये कि आगामी दिवस में गांव का दौरा कर समस्याओं का निदान करें।
सडक़ कार्य की जांच के आदेश
जिला कलक्टर ने ग्रामीणों को विद्युत चोरी नहीं करने की समझाईश की। उन्होंने कहा कि विद्युत बचाकर या एलईडी बल्ब लगाकर बिजली के बिलों को कम किया जा सकता है, लेकिन चोरी की आदत समाज के लिये अच्छी बात नही है। गांव में बन रही सडक़ों की चौड़़ाई मात्र 8-9 फिट होने पर जिला कलक्टर ने इसे जांच के निर्देश दिये हैं।
चौपाल में एसडीएम सादुलशहर, विकास अधिकारी सादुलशहर, तहसीलदार सादुलशहर, सरपंच श्रीमती परमजीत कौर सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी व ग्रामीण उपस्थित थे।

Amit Khan
I am a enthusiastic journalist and work for day and night to aware people about new events and local problems about your city and state.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *